Gadar Ki Chingariyan

$3,00$6,00

ISBN: 978-81-7309-4
Pages: 263
Edition: First
Language: Hindi
Year: 2011
Binding: Paper Back

Clear
View cart

Description

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में 1857 की क्रांति को ‘गदर’, सिपाही विद्रोह, प्रथम स्वाधीनता आंदोलन आदि नामों से जाना जाता है। इस महान क्रांति में अपनी आहुति देनेवाले भारतीय वीरों के बारे में बहुत कम सामग्री मिलती है, कारण उसे अंग्रेजों द्वारा नष्ट करने का प्रयास किया गया। अंग्रेजों द्वारा प्रायोजित सामग्री की प्रामाणिकता पर आँख मूंदकर विश्वास नहीं किया जा सकता। परंतु हमारे लोक-गीतों में व्याप्त इन नायक और नायिकाओं की कथा में अतिरेक भले हो पर उनकी सत्यता नि:संदेह असंदिग्ध है।

इस महान क्रांति के नायकों के जीवन और संघर्षों को इतिहासकारों और साहित्यकारों ने काफी हद तक प्रकाश में लाने का प्रयास किया है परंतु उन वीरांगनाओं के उत्कट वीरता की कहानियाँ आज भी सही मायने में इतिहास के पन्नों में दर्ज नहीं हो पाई हैं। यह प्रसन्नता की बात है कि आज के हमारे लेखक इतिहास के हाशिए पर पड़े ऐसे नायक-नायिकाओं को प्रकाश में लाकर पुरानी गलतियों को सुधारने का प्रयास कर रहे हैं।

Additional information

Weight 300 g
Dimensions 14 × 21,5 × 1,11 cm
Book Binding

Hard Cover, Paper Back

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Gadar Ki Chingariyan”