Manawata Ke Rajat Karn (PB)

50

ISBN: 81-7309-015-7
Pages:
Edition:
Language:
Year:
Binding:

Availability: 846 in stock Category:
View cart

Description

मानवता के रजत कण

यशपाल जैन

मूल्य: 35.00 रुपए

‘सस्ता साहित्य मण्डल’ ने आरंभ से ही अपने उद्देश्य के अनुरूप ऐसा साहित्य प्रकाशित किया है, जो चरित्र-निर्माणकारी है और मानवीय मूल्यों को प्रतिष्ठापित करता है। विभिन्न विषयों की अब तक उसने जितनी पुस्तकें निकाली हैं, उनके पीछे मूल पे्ररणा यही रही है। इस पुस्तक की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि लेखक ने अपनी बात बहुत ही सरल और सहज ढंग से कही है। उनके विचारों तथा भाषा-शैली में कहीं भी कोई जटिलता अथवा क्लिष्टता नहीं है। स्पष्टता इतनी है कि सामान्य-से-सामान्य पाठक भी उसे आसानी से समझ सकता है। पुस्तक में बताया गया है कि मानव-जीवन का ध्येय क्या है और वह किस प्रकार संपादित किया जा सकता है।

Additional information

Weight 166 g
Dimensions 13.10 × 21.5 × 1 cm

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Manawata Ke Rajat Karn (PB)”