Jagey Tabhi Savera (PB)

55

ISBN: 978-81-7309-2
Pages: 208
Edition: Fifth
Language: Hindi
Year: 2008
Binding: Hard Bound

Availability: 328 in stock Category:
View cart

Description

‘मण्डल’ ने अनेक उपन्यास प्रकाशित किए हैं। वस्तुतः इन उपन्यासों के प्रकाशन के पीछे एक दृष्टि रही है और वह यह कि भारतीय एवं अन्य भाषाओं के चुने हुए उत्तम उपन्यास हिंदी के पाठकों को सुलभ हो जाएं। प्रस्तुत उपन्यास गुजराती के प्रसिद्ध लेखक श्री जयभिक्खु के ‘प्रमनुं मंदिर’ का हिंदी रूपांतर है। गुजराती में इसके कई संस्करण हुए हैं। इसका रूपांतर श्री कस्तूरमल बांठिया ने किया है। हिंदी के पाठकों को इतनी सुंदर कृति उपलब्ध करने के लिए हम उने आभारी हैं। पांडुलिपि की तैयारी में योगदान देने के लिए दैनिक हिन्दुस्तान के भूतपूर्व संपादक श्री मुकुट बिहारी वर्मा के ऋणी हैं।

Additional information

Weight 250 g
Dimensions 14 × 21.2 × 1.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Jagey Tabhi Savera (PB)”