Chirya Jiti Raja Hara (PB)

30

ISBN: 978-81-7309-3
Pages: 30
Edition: Fifth
Language: Hindi
Year: 2011
Binding: Paper Back

Availability: 999 in stock Category:
View cart

Description

हिंदी में वैसे बहुत-सी पुस्तकें निकल रही हैं, लेकिन बाल-साहित्य का अभाव अभी तक बना हुआ है। अंग्रेजी तथा अन्य विदेशी भाषाओं में बच्चों के लिए बहुत सुन्दर साहित्य बराबर आता रहता है, पर हिंदी में इस और अभी तक जितना ध्यान दिया जाना चाहिए, उतना नहीं दिया गया। इस कमी को दूर करने के लिए ‘मण्डल’ ने ‘बाल-साहित्य-माला’ की योजना बनाई और ऐसी पुस्तकें देने का प्रयत्न किया, जो बच्चों के लिए रोचक, रुचिकर और मनोरंजक हों, साथ ही उन्हें कुछ सीख भी दे सकें। इस माला में अनेक पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं। ये पुस्तकें बड़ी सरल भाषा और सुबोध शैली में लिखी गई हैं। प्रत्येक पुस्तक में कुछ चित्र भी दिए गए हैं। बच्चों ने इन पुस्तकों को बहुत पसंद किया है। यह इस बात से भी स्पष्ट है कि इनकी मांग बराबर होती रहती है। माला में नई-नई पुस्तकें भी जोड़ी जा रही हैं।

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Chirya Jiti Raja Hara (PB)”