Dibay Jiwan Ki Jhakiya (PB)

35

ISBN: 81-7309-120-x
Pages:
Edition:
Language:
Year:
Binding:

Availability: Out of stock Category:

Description

सस्ता साहित्य मण्डल द्वारा निरंतर महापुरुषों की जीवनियां, उनके वचन तथा लोकोपयोगी गं्रथों के चुने हुए सुभाषित आदि विशेष रूप से प्रकाशित किए गए हैं। प्रस्तुत पुस्तक भी इसी दिशा में एक कृति है। इसकी छोटी-छोटी कथाएं, विशिष्ट पुरुषों के जीवन-प्रसंग तथा विभिन्न प्रवासों के दौरान लेखक की अनुभूतियां पाठकों को बड़ी ही स्वस्थ और विचार-प्रेरक सामग्र्री प्रदान करती है। रचनाएं कितनी रोचक हैं, इसका अनुमान तो पाठक इन्हें पढ़कर स्वयं करेंगे, लेकिन यह निश्चित है कि एक बार पुस्तक को हाथ में उठा लने पर बिना पूरी पढ़े उसे छोड़ना शायद ही पाठक के लिए संभव हो सके।

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Dibay Jiwan Ki Jhakiya (PB)”