Meera Bai Ke Shubodh Pad (PB)

30

ISBN: 81-7309-083-1
Pages:
Edition:
Language:
Year:
Binding:

Availability: 323 in stock Category:
View cart

Description

मीराबाई और उनके पदों के विषय में कुछ भी कहना अनावश्यक है। उनके पदों को सुनकर आज भी हृदय पुलकित हो उठता है। उनमें भक्ति-रस की ऐसी धारा प्रवाहित है कि उसमें जो भी अवगाहन करता है, उसे बड़ी शीतलता अनुभव होती है। इस माला की सभी पुस्तकों का संकलन संत-साहित्य के मर्मज्ञ श्री वियोगी हरि जी ने किया है। उन्होंने शब्दार्थ तथा आवश्यक टिप्पणियां भी दे दी हैं। सोने में सुहागे की कहावत चरितार्थ हुई है।

Additional information

Weight 55 g
Dimensions 12.1 × 18.1 × 0.50 cm

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Meera Bai Ke Shubodh Pad (PB)”