Jeevan Kya Jiya

160350

ISBN:
Pages: 204
Edition: 1st Edition
Language: Hindi
Year: 2017
Binding: Paper Back

SKU: N/A Category:
Clear
View cart

Description

राजकमल चौधरी मैथिली ही नहीं, हिंदी के भी विरल रचनाकार थे। अपनी अल्प आयु में ही उन्होंने विपुल साहित्य का सृजन किया, जो गुणवत्ता की दृष्टि से भी उत्कृष्ट मानी जाती है। अपने जीवनकाल में राजकमल मैथिली और हिंदी, दोनों साहित्यिक वर्ग में कुत्सित राजनीति के शिकार रहे यह बहुत दुखद है। आशा है उनकी यह पुस्तक पाठकों को पसंद आएगी।

Additional information

Weight 225 g
Dimensions 14.2 × 21.5 × 1 cm
Book Binding

Hard Cover, Paper Back

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Jeevan Kya Jiya”